सिग्नल एनालिटिक्स

सिग्नल एनालिटिक्स साइबर फिजिकल सिस्टम्स (सीपीएस) का एक प्रमुख अनुसंधान डोमेन है, जहां भौतिक दुनिया को समझने और उनके साथ इंटेरैक्ट करने एवं वास्तविक समय में सपोर्ट करने के लिए, संरक्षा के दृष्टिकोण से महत्वपूर्ण अनुप्रयोगों में गारंटीकृत कार्यनिष्पादन के लिए एम्बेडेड संवेदकों, प्रोसेसरों और एक्चुएटरों वाली स्मार्ट नेटवर्क प्रणालियाँ डिजाइन की जाती हैं।

सिग्नल एनालिटिक्स ग्रुप का मुख्य ध्यान निम्नलिखित डोमेन में अनुसंधान और विकास को अंजाम देना है:

मशीन लर्निंग और सिग्नल प्रोसेसिंग

अनुप्रयोगों की बढ़ती संख्या के लिए अस्थायी और संवेदक डेटा पर सिग्नल प्रोसेसिंग और मशीन लर्निंग तकनीक के संयुक्त उपयोग की आवश्यकता होती है। संसाधित सिग्नल की माइनिंग से दिलचस्प पैटर्न उभर कर सामने आता है।

सिग्नलों के विशिष्ट पैटर्न कुछ क्रियात्मक परिणामों को इंगित कर सकते हैं जैसे डिवाइस की विफलता, पूर्वानुमान, पहचान आदि। आईओटी सक्षम सेंसर उच्च वेग पर विभिन्न प्रकार के डेटा स्ट्रीम उत्पन्न करते हैं और अधिक समय तक साथ-साथ कई सिग्नल भेज सकते हैं। यह बहुआयामी टाइम-ऑर्डर स्ट्रीम्स को संसाधित करने के लिए आवश्यक होता है। इसलिए, कई स्रोतों द्वारा उत्पन्न सिग्नलों में विशिष्ट पैटर्न का पता लगाने के लिए नवीन तरीकों की भी आवश्यकता होती है।

केमोमेट्रिक्स और मशीन लर्निंग

केमोमेट्रिक्स एक विश्लेषणात्मक रासायनिक क्षेत्र है जो प्रायोगिक प्रक्रियाओं को डिजाइन करने या उनका चयन करने के लिए गणितीय उपकरणों का उपयोग करता है। ऐसी प्रक्रियाओं का उपयोग रासायनिक डेटा का विश्लेषण करके अधिकतम प्रासंगिक रासायनिक जानकारी प्रदान करने के लिए और रासायनिक प्रणालियों के बारे में ज्ञान प्राप्त करने के लिए किया जाता है। प्रतिरूप अभिज्ञान (पैटर्न रेकोग्नीशन) और यंत्र अधिगम तकनीक (मशीन लर्निंग तकनीक) के साथ विद्युत रासायनिक, ध्वनिक और स्पेक्ट्रल विश्लेषण संवेदन योजनाओं की शक्ति को बढ़ा सकते हैं। कुछ बुनियादी समस्याओं जैसे पानी की गुणवत्ता का निर्धारण, मृदा विश्लेषण, दुग्ध गुणवत्ता और खाद्य गुणवत्ता मूल्यांकन के लिए प्रभावी इंटेलिजेंट सेंसर विकास हेतु प्रभावी विश्लेषण उपकरण का विकास एक चुनौती है।