इंटरनेट ऑफ थिंग्स

IoT Theme

इंटरनेट ऑफ थिंग्स (आईओटी) एक दूसरे से बात करनेवाले भौतिक आइटमों, मशीन-से-मशीन संप्रेषण और व्यति-से-व्यक्ति संप्रेषण के बारे में होता है। उम्मीद है कि वर्ष 2025 तक, आईओटी नोड्स अधिकांश ऑब्जेक्ट्स को जोड़ेगा, जिसमें से अधिकांश हमारे दैनिक जीवन के लिए अपरिहार्य होते हैं। आईओटी के माध्यम से न केवल मनुष्यों और पशुओं के स्वास्थ्य की स्थिति को मॉनिटर करना संभव हो सकता है बल्कि विभिन्न अभियांत्रिकी संरचनाओं (इंजीनियरिंग स्ट्रक्चर्स) के स्वास्थ्य को भी मॉनिटर करना संभव हो सकता है। प्रमुख तकनीकियाँ जो भविष्य के आईओटी तकनीक का संचालन करेंगी वे स्मार्ट संवेदक प्रौद्योगिकियों जैसे उन्नत एमईएमएस संवेदक, जैव-इलेक्ट्रॉनिकी, नैनो प्रौद्योगिकी और संवेदन उपकरणों के लघुरूपण से जुड़ी होंगी। आईओटी समूह मुख्य रूप से निम्नलिखित प्रौद्योगिकीय चुनौतियों पर फोकस करेगी:

  • संवेदकों और एक्चुएटरों की इंटरफेसिंग
  • संबद्ध संवेदक एवं एक्चुएटर्स